केदारनाथ धाम से जुड़े निम्न तथ्य जो आपको जानने चाहिए-


१. माना जाता है की 400 साल तक बर्फ में दबा रहा केदारनाथ धाम।


२. 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग मंदिर।

३. केदार, खर्चकुंड और भरतकुंड 3 पहाड़ी व 5 नदियों का संगम भी है यहां- मं‍दाकिनी, मधुगंगा, क्षीरगंगा, सरस्वती और स्वर्णगौरी अविरल बहती हैं।

४. 6 फुट ऊंचे चबूतरे पर खड़े 85 फुट ऊंचे, 187 फुट लंबे और 80 फुट चौड़े मंदिर की दीवारें 12 फुट मोटी हैं जोकि आज भी भवनिकी का नायब नमूना है।

५. माना जाता है की सर्वप्रथम पांडवों ने ब्रह्म हत्या से मुक्ति पाने के लिए बनवाया था केदार नाथ मंदिर, इसके बाद आदि गुरु शंकराचार्य ने इसकी पुनर्स्थापना की ।इसका गर्भगृह अपेक्षाकृत प्राचीन है जिसे 8वीं शताब्दी के लगभग का माना जाता है। पहले 10वीं सदी में मालवा के राजा भोज द्वारा और फिर 13वीं सदी में मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया।

६. 6 माह तक मंदिर के अंदर दीपक जलता रहता है केदार धाम के कपाट शीत ऋतु में बंद होते है जब पुन कपाट खोले जाते हैं तो ६ माह पूर्व जलाये दीये में ज्योति विराजमान होती है।

७. पंच केदार में प्रथम केदार भगवान केदारनाथ हैं, द्वितीय केदार मद्महेश्वर हैं, तृतीय केदार तुंगनाथ, चतुर्थ केदार भगवान रुद्रनाथ और पंचम केदार कल्पेश्वर हैं।

जय बाबा केदार।

Post a Comment

नया पेज पुराने