जगन्नाथ पूरी धाम भारत के कौन से राज्य में है , जगन्नाथ रथयात्रा वर्ष में कितनी बार आयोजित होती है और क्यों आयोजित होती है ? जैसे अनेकों रोचक तथ्य जो आपको जानने चाहिए

श्री जगन्नाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है जो भगवान विष्णु के एक रूप भगवान जगन्नाथ को समर्पित है, जो भारत के ओडिशा राज्य में है है। जगन्नाथ रथ यात्रा एक वार्षिक उत्सव है जो भगवान जगन्नाथ (भगवान कृष्ण) , बलभद्र और सुभद्रा को समर्पित है। मूर्तियों को मंदिर से बाहर लाने और उन्हें अपने-अपने रथों में स्थापित करने की रस्म को पहानड़ी कहा जाता है। माना जाता है की जगन्नाथ रथ यात्रा, द्वारका पूरी से ब्रज भूमि (आधुनिक मथुरा और वृंदावन) की श्री कृष्ण की यात्रा का प्रतीक है, इसे कंस द्वारा मथुरा में आमंत्रित किए जाने के बाद गोकुल से भगवान कृष्ण के प्रस्थान का एक त्यौहार भी माना जाता है।

रथ यात्रा में भगवान कृष्ण का हर भक्त शामिल होता है, चाहे वे कोई भी हो। रथ को खींचने की प्रक्रिया मन की शुद्धि और सर्वोच्च के प्रति समर्पण के कार्य का प्रतीक है।

१.पुरी जगन्नाथ की रथ यात्रा का ब्रह्म पुराण, पद्म पुराण, स्कंद पुराण और कपिला संहिता जैसे प्राचीन धर्मग्रंथों में भी उल्लेख मिलता है, जो यात्रा के प्राचीन धार्मिक महत्व का साक्ष्य है ।

२. भगवान जगन्नाथ का रथ, नंदीघोष जिसे गरुड़ध्वज, कपिलध्वज भी कहा जाता है लगभग 44 मीटर लंबा होता व इसमें 16 पहिए होते है , रथ के लिए प्रयुक्त रंग लाल और पीले हैं। बलभद्र या बलराम के रथ को तलध्वज या लंगलाध्वज कहा जाता है, और यह 43 फीट की ऊंचाई व 14 पहिए तथा रथ को सजाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रंग लाल और नीले-हरे हैं। सुभद्रा के रथ में 12 पहिए होते हैं, और उनसे जुड़े रंग लाल और काले होते हैं। उसके रथ को दारपदलाना देवदालना या पद्मध्वजा के नाम से जाना जाता है और यह 42 फीट लंबा होता है, रथ एक तरह के नीम के पेड़ से बनाए जाते हैं

३. राजा जिसे गजपति के नाम से जाना जाता है, एक स्वीपर की तरह कपड़े पहनते हैं और सड़क पर सुनहरे हत्थे वाले झाड़ू और चंदन युक्त सुगंधित पानी से सफाई करते हैं। इस अनुष्ठान को चेरा पर्व कहा जाता है। इसे यात्रा के अंतिम दिन दोहराया जाता है।

४.रथ यात्रा उत्सव के चौथे दिन, देवी लक्ष्मी भगवान जगन्नाथ को गुंडिचा मंदिर में अपने पति से मिलने के लिए जाती हैं। गुंडिचा मंदिर जो राजा पुरी के राजा इंद्रद्युम्न की याद में बनाया गया था, जिन्होंने प्रसिद्ध पुरी मंदिर का निर्माण किया था।

५. आषाढ़ शुक्ल पक्ष दशमी पर वापसी यात्रा शुरू करते हैं, जिसे बहुदा या दक्षिणामुखी भी कहा जाता है। और मान्यताओं के अनुसार उनके निवास पर लौटने से पहले, देवता देवी अर्धाशिनी के मंदिर में उनकी आज्ञा का पालन करने के लिए रुकते है । यात्रा का समापन अनुष्ठान, जिसे सूर्य बैशा कहा जाता है,जो की दसवें और ग्यारहवें दिन आयोजित किए जाते हैं। तब देवताओं को सोने के आभूषणों से सजाया जाता है, जो सुन बासा एक अनुष्ठान होता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post